संज्ञा की परिभाषा

संज्ञा,सर्वनाम, विशेषण, क्रिया की परिभाषा एवं उनके भेद।

हेलो दोस्तों इस पोस्ट में हम आज जानेंगे कि संज्ञा,सर्वनाम ,विशेषण एवं क्रिया की परिभाषा क्या हैं एवं उनके भेद कौन- कौन से हैं।

संज्ञा की परिभाषा-

                                               जो शब्द किसी व्यक्ति, वस्तु, स्थान आदि का बोध कराते हैं उन्हें संज्ञा कहते हैं, जैसे- आकाश,मनुष्य,कुर्सी,बाजार आदि। 

संज्ञा के भेद –
  • व्यक्तिवाचक संज्ञा
  • जातिवाचक संज्ञा
  • भाव वाचक संज्ञा
  • समुदायवाचक संज्ञा
  • द्रव्यवाचक संज्ञा
  1. व्यक्तिवाचक संज्ञा-                                                                                                                                                                                                                                      व्यक्तिवाचक संज्ञा  उस संज्ञा को कहते हैं ,जो किसी स्त्री,पुरुष,स्थान विशेष का बोध कराये। जैसे- रीता, सतीश ,बनारस आदि।
  2. जातिवाचक संज्ञा-                                                                                                                                                                                                                                        जातिवाचक संज्ञा उस संज्ञा को कहते हैं ,जो किसी एक जाति ,वस्तुओं, मनुष्यों  आदि का बोध कराये। जैसे- स्त्री,पुरुष, जानवर, नदी आदि।
  3. भाववाचक संज्ञा-                                                                                                                                                                                                                                          भाववाचक संज्ञा उस संज्ञा को कहते हैं, जो किसी पदार्थ के गुण, दोष, अवस्था,कार्य ,व्यापार आदि का बोध कराये। जैसे- दया, गर्मी, चोरी,दुःख, सुख,यौवन आदि।
  4. समुदायवाचक संज्ञा-                                                                                                                                                                                                                                     समुदाय वाचक संज्ञा उस संज्ञा को कहते हैं , जो किसी समुदाय या समूह विशेष का बोध कराये। जैसे- सेना, कक्षा, संघ आदि।
  5. द्रव्यवाचक संज्ञा-                                                                                                                                                                                                                                          द्रव्यवाचक संज्ञा उस संज्ञा को कहते हैं ,जो किसी द्रव्य (धातु) का बोध कराये। जैसे- सोना, लोहा,तांबा आदि।

सर्वनाम की परिभाषा –

जो शब्द संज्ञा के स्थान पर प्रयुक्त होते हैं उन्हें सर्वनाम कहते हैं ,जैसे- राम परिश्रम करेगा तो फल अवश्य पायेगा। इसी प्रकार आप,तुम,वे,आदि भी सर्वनाम हैं।

सर्वनाम के भेद-
  • पुरुषवाचक सर्वनाम
  • निश्चयवाचक सर्वनाम
  • अनिश्चयवाचक सर्वनाम
  • सम्बन्धवाचक सर्वनाम
  • प्रश्न वाचक सर्वनाम
  1. पुरुषवाचक सर्वनाम-                                                                                                                                                                                                                                          पुरुषवाचक सर्वनाम उन्हें कहते हैं ,जिनसे वक्ता, श्रोता,या प्रसंगाधीन व्यक्ति का बोध होता हैं। जैसे- मैं, हम,आप,तुम आदि।              पुरुषवाचक सर्वनाम तीन प्रकार के होते हैं। –                                                                                                                                                                                                                                        उत्तम पुरुष                                                                                                                                                                                                                   मध्यम पुरुष                                                                                                                                                                                                                 अन्य पुरुष 
  2. निश्चयवाचक सर्वनाम-                                                                                                                                                                                                                                       निश्चयवाचक सर्वनाम उन्हें कहते हैं, जो किसी विशेष वस्तु का निश्चय करते हैं ,जैसे- यह,वह,ये,वे आदि।
  3. अनिश्चयवाचक सर्वनाम-                                                                                                                                                                                                                                  अनिश्चयवाचक सर्वनाम उन्हें कहते हैं, जो किसी वस्तु का निश्चय न कर सके ,जैसे- सबकुछ,और कोई।
  4. सम्बन्धवाचक सर्वनाम-                                                                                                                                                                                                                                      सम्बन्धवाचक सर्वनाम उन्हें कहते हैं ,जो पहले या बाद के उपवाक्य में आये संज्ञा या सर्वनाम से सम्बन्ध बताएं और दोनों उपवाक्यों को जोड़ें ,जैसे- जो जैसा करेगा, वह वैसा भरेगा।
  5. प्रश्नवाचक सर्वनाम-                                                                                                                                                                                                                                           प्रश्नवाचक सर्वनाम उन्हें कहते हैं ,जिनका प्रयोग किसी बारे में प्रश्न करने के लिए प्रयुक्त किया जाएँ ,जैसे- क्या, कौन।

विशेषण की परिभाषा-

वे शब्द जो संज्ञा या सर्वनाम की विशेषता प्रकट करते हैं,उन्हें विशेषण कहते हैं। जैसे- काला,मोटा,सुन्दर,भव्य आदि।

विशेषण जिस संज्ञा या सर्वनाम की विशेषता बताते हैं,उसे विशेष्य कहते हैं। सुन्दर बाग़ में सुन्दर विशेषण हैं और बाग़ विशेष्य हैं।

विशेषण के भेद-
  • गुणवाचक विशेषण
  • संख्यावाचक विशेषण
  • परिणामवाचक विशेषण
  • संकेतवाचक विशेषण
  1. गुणवाचक विशेषण-                                                                                                                                                                                                                                      गुणवाचक विशेषण  उसे कहते हैं जो किसी संज्ञा या सर्वनाम के गुण, रंग,आकार,अवस्था का बोध कराये। जैसे- लाल,पीला,दुबला,मोटा,सुशील,दुष्ट,भारतीय आदि।
  2. संख्यावाचक विशेषण-                                                                                                                                                                                                                                      संख्यावाचक विशेषण उसे कहते हैं जो संज्ञा या सर्वनाम की संख्या, गणनाक्रम,समूह आदि का बोध कराते हैं जैसे- चार किला,दो हाथी,  तीसरा मकान।                                                                                                                                                                                                                        संख्यावाचक विशेषण तीन प्रकार के होते हैं –                                                                                                                                                                                                        निश्चित संख्या वाचक विशेषण-  जैसे एक,दो,तीन,पहला,दूसरा,तीसरा,दुगना आदि                                                                                                                अनिश्चित संख्यावाचक विशेषण – जैसे  बहुत,कुछ,थोड़ा आदि।                                                                                                                                             विभागवाचक विशेषण-जैसे प्रत्येक,हर एक आदि।
  3. परिणामवाचक विशेषण –                                                                                                                                                                                                                                    परिणाम वाचक विशेषण उसे कहते हैं,जो किसी संज्ञा या सर्वनाम का परिणाम बताये,जैसे- चार किलो, थोड़ा दूध आदि।
  4. संकेतवाचक विशेषण-                                                                                                                                                                                                                                          संकेतवाचक विशेषण उसे कहते हैं जो किसी संज्ञा या सर्वनाम की ओर संकेत करें जैसे- ऐसा,उस,वैसा,उतना,जो,जिस आदि।

क्रिया की परिभाषा-

    जिस शब्द से किसी कार्य के करने या होने का बोध हो उसे क्रिया कहते हैं। जैसे- वह लिखता हैं।  हर वाक्य में क्रिया का होना अनिवार्य होता हैं।   

क्रियाएं दो प्रकार की होती हैं –

  • अकर्मक क्रिया
  • सकर्मक क्रिया
  1. अकर्मक क्रिया-                                                                                                                                                                                                                                         अकर्मक क्रिया उसे कहते हैं जिसका कर्म नहीं होता और जिसका फल व प्रभाव कर्ता पर पड़ता हैं जैसे- वह जाता हैं, वे खेलते हैं,तुम रोते हो आदि 
  2. सकर्मक क्रिया-                                                                                                                                                                                                                                        सकर्मक क्रिया उसे कहते हैं,जिसका प्रभाव या फल कर्म पर पड़ें अर्थात सकर्मक क्रिया के साथ कर्म होता हैं,जैसे- राम पुस्तकें पढ़ता हैं, राम ने रावण को मारा 

कुछ अकर्मक क्रियाओं को सकर्मक बनाया जा सकता हैं जैसे- पिसना से पीसना गड़ना से गाड़ना आदि।

 

 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *