समास की परिभाषा

समास की परिभाषा एवं समास के भेद।

हेलो दोस्तों हम पोस्ट में हम आज पढ़ेंगे समास क्या हैं एवं समास के भेद क्या हैं ?

समास की परिभाषा-

परस्पर सम्बन्ध रखने वाले दो या दो से अधिक शब्दों के मेल को समास कहते हैं। जब दो या दो से अधिक शब्द मिलकर किसी नए एवं सार्थक शब्द की रचना करते हैं तो उसे समास कहते हैं। 

उदहारण-                     

नीली हैं जो गाय             नीलगाय 

नीला हैं जो अम्बर          नीलाम्बर 

पांच वटों का समूह          पंचवटी 

समास युक्त पद को समस्तपद कहते हैं, विग्रह करने पर समस्त पद के दो पद बन जाते हैं। -पूर्व पद और उत्तर पद

समस्तपद                      पूर्वपद               उत्तरपद

युद्धभूमि                         युद्ध                    भूमि

जन्म मरण                      जन्म                  मरण

चतुरानन                        चतुर                  आनन

समास के भेद-

समास के छः भेद हैं।

  1. तत्पुरुष समास 
  2. बहुब्रीहि समास 
  3. द्वन्द समास 
  4. द्विगु समास 
  5. कर्मधारय समास 
  6. अव्ययीभाव समास 
  • तत्पुरुष समास- जहाँ दूसरा पद प्रधान होता हैं तथा पहले पद के साथ लगी विभक्ति का लोप होता हैं, वहां तत्पुरुष समास होता हैं।                           

  समस्त पद                                 विग्रह 

यश प्राप्त                                  यश को प्राप्त

शोकाकुल                                 शोक से आकुल

तुलसीकृत                                  तुलसी से कृत

हस्तलिखित                               हस्त से लिखित

अनुभवजन्य                               अनुभव से जन्य

  • बहुब्रीहि समास- जिस समस्त पद में कोई भी पद प्रधान नहीं होता हैं और सारा समस्त पद किसी अन्य के बिशेषण के रूप में प्रयुक्त होता हैं उसे बहुब्रीहि समास कहते हैं। जैसे-

समस्त पद                   विग्रह 

नीलकंठ                        नीले कंठ वाला (शिव)

दशानन                         देश आनन वाला (रावण)

पीताम्बर                        पीट अम्बर वाला (श्री कृष्ण)

घनश्याम                       जो घन के समान श्याम हैं (श्री कृष्ण)

  • द्वन्द समास- जिस समस्त पद में दोनों पद प्रधान होते हैं, और विग्रह करने पर और,एवं,तथा ,आदि लगता हो उसे द्वन्द समास कहते हैं। जैसे –

समस्त पद                                  विग्रह 

माता-पिता                                    माता और पिता

राजा-रंक                                      राजा और रंक

पाप-पुण्य                                     पाप और पुण्य

आचार-व्यवहार                            आचार और व्यवहार

भीम-अर्जुन                                   भीम और अर्जुन

  • द्विगु समास- जिस समास में पूर्वपद संख्या वाचक होता हैं, और किसी समूह का बोध कराता हैं उसे दिगु समास कहते हैं। जैसे-

समस्त पद                                   विग्रह

पंचवटी                                        पांच वटों का समूह

नवरत्न                                         नवरत्नों का समाहार

त्रिफला                                       तीन फलों का समाहार

त्रिभुवन                                       तीन भुवनो का समूह

  • कर्मधारय समास- जिस समास में पूर्वपद विशेषण और उत्तरपद विशेष्य या एकपद उपमान तथा दूसरा पद उपमेय होता हैं उसे कर्मधारय समास कहते हैं। 

समस्त पद                             विग्रह 

नीलगाय                                   नीली हैं जो गाय

नीलाम्बर                                  नीला हैं जो अम्बर

श्वेताम्बर                                   श्वेत हैं जो अम्बर

कालीमिर्च                                 काली हैं जो मिर्च

महाविद्यालय                            महान हैं जो विद्यालय

अधपका                                  आधा हैं जो पका

  • अव्ययीभाव समास- जिस समास में पहला पद अव्यय हो तथा उसके योग से सारा समस्तपद ही अव्यय बन जाएँ तो उसे अव्ययीभाव समास कहते हैं। जैसे- 

समस्त पद                                     विग्रह 

आजन्म                                            जन्म से लेकर

आजीवन                                          जीवन पर्यन्त

आमरण                                           मृत्यु पर्यन्त

एकाएक                                          अचानक

 

2 thoughts on “समास की परिभाषा एवं समास के भेद।”

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *