fastag kya hain

FASTAG क्या हैं,और यह कैसे काम करता हैं?

हेलो दोस्तों इस पोस्ट में हम जानेंगे की फास्टैग क्या हैं और इसे कैसे इस्तेमाल करते हैं इसमें हम भी जानने का प्रयाश करेंगे की यह काम कैसे करता है और फास्टैग का उपयोग कर हम किस प्रकार टोल टैक्स का भुगतान ऑनलाइन कर सकते हैं।

FASTAG क्या हैं ?

FASTAG एक इलेक्टॉनिक टोल संग्रहण प्रणाली हैं जो भारत सरकार के अधीन कार्यरत भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण के द्वारा संचालित की जाती हैं, इन प्रणाली सभी टोल प्लाजा पर ऑनलाइन टोल टैक्स भुकतान के लिए शुरू की गई हैं, केंद्र सरकार 1 दिसंबर से सभी टोल प्लाजा पर टोल टैक्स का भुगतान फास्टैग से करने का आदेश दिया जाता है, सरकार शत प्रतिशत टोल टैक्स इलेक्टॉनिक्स माध्यम चाहती है। फास्टैग रेडियो फ्रीक्वेन्सी आइडेंटिफिकेशन तकनीक पर काम करता है, रेडियो फ्रेक्वेन्सी आइडेंटिफिकेशन टैग गाड़ी के ग्लास के ऊपर लगा रहता है, जो आपके बैंक ACCOUNT और नेशनल हाईवे AUTHORITY ऑफ इंडिया के पेमेंट वॉलेट से जुड़े हुए हैं, जैसे ही आपकी गाड़ी टोल प्लाजा पर पहुँचती हैं। टोल प्लाजा पर लगा सेंसर  आपकी विंड स्क्रीन पर लगे टैग को स्कैन कर आपके फास्टैग वॉलेट से पैसे काट लेते हैं और आप टोल प्लाजा पर बिना रुके ही टोल टैक्स  का भुकतान ऑनलाइन अपने फास्टैग वॉलेट या बैंक अकाउंट से कर सकते हैं।

फास्टैग कैसे काम करता है?

रेडियो फ्रीक्वेंसी आइडेंटिफिकेशन टैग आपकी विंड स्क्रीन पर लगा रहता है जैसे ही आप टोल प्लाजा के पास पहुंचते हैं टोल प्लाजा पर लगा सेंसर आपकी विंड स्क्रीन पर लगे फास्टैग को स्कैन कर उस टोल नाके पर लगने वाले शुल्क का भुगतान आटोमेटिक कर लेता हैं ।  वॉलेट से समान शुल्क कट जाता है, और आपको घंटो टोल नाके पर रुकने की जरूरत नहीं रहती है। हैं और आप अपनी यात्रा का भी आनंद बिना किसी परेशानी और समस्या के कर सकते हैं। फास्टैग का इस्तेमाल कर आप जब भी किसी टोल नाके से गुजरेंगे तो आप बिना रुके शुल्क का भुकतान कर पाएंगे और भुकतान होते  ही आपके मोबाइल पर एस एम एस के द्वारा आपको यह भी मालूम पड़ जाएंगा की कितनी फीस का भुकतान हुआ है और आपके फास्टैग वॉलेट पैसे कितने पैसे अभी बाकी हैं।

फास्टैग को उपयोग करने के फायदे

फास्टैग को उपयोग करने का सबसे बड़ा फायदा यह हैं की आप को टोल नाके पर  घंटों रुकने की जरुरत नहीं रहतीं, आप बिना किसी रोक टोक के आसानी से अपने सफर का आनंद ले सकते हैं, आपको फास्टैग – एक फायदा यह भी हैं अगर आप कैश में ट्रांजेक्शन नहीं करते हैं तो आप बड़ी ही आसानी से प्रीपेड फास्टैग वॉलेट का इस्तेमाल कर टोल टैक्स का भुकतान ऑनलाइन कर सकते हैं और टोल प्लाजा पर लगने वाले जाम से निजात  पा सकते हैं। टोल प्लाजा पर लगने वाले शुल्क के भुगतान का आपको तुरंत आपके रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर एस एम एस भी प्राप्त होगा, जिससे आप यह भी जान सकते हैं की आपने कौन से टोल नाके पर कितने भुकतान किए हैं और आपके फास्टैग वॉलेट – अभी तक कितने पैसे शेष हैं।

हमारे फास्टैग वॉलेट का रिचार्ज किन – किन कंपनियों से हो सकता है?

 फास्टैग अकाउंट को रिचार्ज करने के लिए आप अपने डेबिट कार्ड, क्रेडिट कार्ड, नेट बैंकिंग या भीम यूपीआई के माध्यम से भी कर सकते हैं, अगर आप इन माध्यमों से रिचार्ज नहीं करना चाहते हैं तो आप बैंको के माध्यम से फास्टैग का रिचार्ज कर सकते हैं।  कई राष्ट्रीयकृत बैंक भी फास्टैग के रिचार्ज की सुविधा देती हैं – ये स्टेट बैंक ऑफ इंडिया, एचडीएफसी बैंक, आइसीआईसीआई बैंक, एक्सिस बैंक आदि हैं।  वैसे आप PAYTM के माध्यम से भी फास्टैग को रिचार्ज कर सकते हैं, फास्टैग अकाउंट को रिचार्ज करना बहुत ही आसान हैं फास्टैग वॉलेट रिचार्ज चार्ज आप नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया की वेबसाइट पर भी कर सकते हैं। और किसी भी अपने पास के टोल प्लाजा पर जाकर भी वॉलेट रिचार्ज करवा सकते हैं।

भारत में फास्टैग की शुरुआत?

भारत सरकार द्वारा टोल प्लाजा पर लगने वाली लम्बी कतारों को कम करने के लिए और लोगों को कैशलेस लेनदेन  की ओर ले जाने के लिए फास्टैग की शुरुवात सन 2014 में मुंबई और अहमदाबाद के बीच पायलट प्रोजेक्ट के रूप में शुरू किया गया था। और इसके बाद धीरे -धीरे फास्टैग देश के अन्य टोल प्लाजा पर लागू किया गया। दिसंबर 2019 को भारत सरकार ने देश के सभी टोल नाको पर फास्टैग को अनिवार्य कर दिया। आज देश के 550 से ज्यादा टोल नाके फास्टैग से जुड़ चुके हैं और आगे भी अन्य टोल प्लाजा को फास्टैग से जोड़ा जा रहा हैं।

यह भी पढ़ें 

धन्यवाद अगर आपको हमारी यह पोस्ट अच्छी लगी हो तो कमेंट करना ना भूले।

 

2 thoughts on “FASTAG क्या हैं,और यह कैसे काम करता हैं?”

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *